Tuesday, July 5, 2022
No menu items!

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना Pradhan Mantri Krishi Sinchayee Yojana [PMKSY 2022]

Must Read

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना Pradhan Mantri Krishi Sinchayee Yojana [PMKSY 2022]

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना Pradhan Mantri Krishi Sinchayee Yojana किसान बंधुओं के लिए भारत सरकार द्वारा शुरू की गई की एक ऐसी योजना है जिसका लक्ष्य देश के हर खेत में सिंचाई के लिए पानी पहुंचाना है।

इस योजना के तहत सिंचाई उपकरणों को खरीदने के लिए सरकार किसानों को सब्सिडी(अनुदान) देती है। यह योजना सूखे जैसे समस्या से निपटने में काफी कारगर साबित हो रही है।

इस आलेख में हम आपको प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (PMKSY) क्या है? इसके उद्देश्य क्या हैं? इसके लाभ क्या हैं? प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का लाभ लेने के लिए आवश्यक पात्रता और दस्तावेज क्या हैं? तथा Pradhan Mantri Krishi Sinchayee Yojana Online Apply करने की प्रक्रिया के बारे में विस्तार से जानेंगे।

◆ प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (Pradhan Mantri Krishi Sinchayee Yojana) क्या है?

हमारे देश की एक बड़ी जनसंख्या कृषि पर निर्भर है। ऐसे में जरूरी है कि कृषि उत्पादन अधिक-से-अधिक बढ़े ताकि देश में खाद्य जरूरतों को भी पूरा किया जा सके और किसान के साथ-साथ देश की अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिले। लेकिन दुर्भाग्यवश आज भी एक बड़ा कृषि क्षेत्र सिंचाई की जरूरतों के लिए वर्षा पर निर्भर है।

कभी अत्यधिक वर्षा की वजह से बाढ़ की स्थिति आ जाती है तो कभी कम वर्षा की वजह से सूखे की स्थिति का सामना करना पड़ता है। इन सब वजहों से फसलें बुरी तरह प्रभावित होती है और किसानों को भारी आर्थिक नुकसान झेलना पड़ता है।

इन्हीं सब परेशानियों को देखते हुए देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने जुलाई 2015 में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना की घोषणा की। इस योजना का संचालन कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग, भारत सरकार के द्वारा किया जा रहा है तथा इसके क्रियान्वयन के लिए राज्य कृषि विभाग को नोडल विभाग बनाया गया है।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का लक्ष्य “हर खेत में पानी” है, जो PMKSY की टैगलाइन भी है। इस योजना के पहले चरण में सरकार द्वारा 50 हजार करोड़ आवंटित किए गए। इस योजना में केन्द्र और राज्य का योगदान 75:25 के अनुपात में तथा नार्थ-ईस्ट व पहाड़ी राज्यों में भी यह अनुपात 90:10 का होगा।

15 दिसंबर 2021 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में “आर्थिक मामलों की मंत्रीमंडलीय समिति” ने प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना को 2026 तक के विस्तार को मंजूरी दी।

इसके लिए 93,068 करोड़ रूपये के परिव्यय की सिफारिश प्रस्तुत की गई। इस योजना के माध्यम से कृषि क्षेत्र में जल की समस्या का सामना करने वाले लगभग 22 लाख किसानों को सीधे तौर पर फायदा मिलेगा।

इस योजना के माध्यम से पुराने जल स्रोतों को ठीक करना, नए जल स्रोतों का निर्माण करना, वर्षा जल संरक्षण करना, नहर-तलाब आदि के निर्माण किए जाएंगे ताकि जल्द से जल्द हर खेतों में सिंचाई(जल) की उपलब्धता को सुनिश्चित किया जा सके।

◆ प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के उद्देश्य क्या हैं

• इस योजना का सबसे बड़ा लक्ष्य “हर खेत में पानी” पहुंचाना है।
• आज भी एक बड़ी कृषि भूमि क्षेत्र सिंचाई से वंचित है जिसके कारण यहाँ के किसान पूरी तरह से मानसून पर निर्भर हैं। ऐसे में इस योजना का उद्देश्य सिंचाई के माध्यम से कृषि योग्य भूमि का विस्तार करना है तथा कृषि उत्पादन को बढ़ाना है।

• सिंचाई के लिए वर्षा पर निर्भर रहने वाले खेतों में समय पर वर्षा ना पड़ने के कारण सूखे का सामना करना पड़ता है जिससे फसलें बुरी तरह प्रभावित होती है और किसान को आर्थिक नुकसान होता है। कई किसान यह आर्थिक नुकसान ना सह पाने की स्थिति में आत्महत्या जैसे घातक कदम उठा लेते हैं। इस योजना का उद्देश्य इन आत्महत्याओं को रोकना भी है।

• इस योजना के लक्ष्यों में जल संरक्षण करना तथा उस संरक्षित जल का इस्तेमाल कृषि के लिए करना भी शामिल है।
• इस योजना का उद्देश्य पुराने जल्द स्रोतों को पुनर्जीवित करना तथा उसका उपयोग खेतों की सिंचाई के लिए करना है।
• इस योजना का उद्देश्य किसानों की आय को बढ़ाना भी है।

• प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का उद्देश्य “प्रति बूंद अधिक फसल” है। इसका अर्थ है जल संरक्षण करना तथा कम जल के इस्तेमाल से अधिक कृषि भूमि को सिंचित करने की तकनीक को बढ़ावा देना।

 

◆ प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लाभ क्या है?

• इस योजना के द्वारा हर खेत में जल पहुंचने के उद्देश्य को पूरा किया जाएगा।
• इस योजना के माध्यम से खेतों को सही मात्रा में पानी उपलब्ध कराने के लिए सिंचाई उपकरणों पर 80-90% तक अनुदान दिया जा रहा है।

• इस योजना में जल संरक्षण पर भी काफी जोर दिया गया है। इसके लिए ड्रिंप सिंचाई/स्प्रिंकलर जैसी तकनीकी को बढ़ावा दिया जा रहा है।
• इस योजना का लाभ वे किसान भी उठा सकते हैं जो लीज पर खेत लेकर खेती करते हैं। इसके लिए कम से कम सात वर्षों का कॉन्ट्रैक्ट होना अनिवार्य है।
• इस योजना के माध्यम से किसानों की आय बढ़ाई जाएगी, जिससे किसानों के साथ-साथ देश की अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिलेगी।
• इस योजना के द्वारा पारंपरिक जल स्रोतों, तलाबों, नहरों आदि को पुनर्जीवित किया जा रहा है।

◆ प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का लाभ लेने के लिए पात्रता क्या है?

1. योजना का लाभ देश के सभी किसानों को मिलेगा।
2. आवेदक किसान के पास अपनी कृषि योग्य भूमि होनी चाहिए।
3. अगर किसान कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग कर रहा है तो उसके पास कम से कम 7 वर्षों का लिखित कॉन्ट्रैक्ट होना चाहिए।
4. इस योजना का लाभ किसानों के स्वयं सहायता समूह,सहकारी समितियाँ आदि के सदस्य किसान को भी मिलेगा।

◆ प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए जरूरी दस्तावेज कौन-कौन से हैं?

1. आवेदक किसान का आधार कार्ड
2. आवेदन का पहचान पत्र
3. आवासीय प्रमाण पत्र
4. बैंक अकाउंट
5. पासपोर्ट साइज फोटो
6. जमीन का खतौनी,जिसमें खाता-खसरा नंबर हो
7. अगर कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग हो,तो न्यूनतम 7 वर्षों का कॉन्ट्रैक्ट पेपर
8. मोबाइल नंबर

◆ प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया क्या है?

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने के इसकी आधिकारिक वेबसाइट pmksy.gov.in पर जा सकते हैं। इस योजना में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए हर राज्य सरकार की अपनी अगल-अलग वेबसाइट है।

अगर आप भी इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो अपने राज्य के कृषि विभाग की वेबसाइट पर जा सकते हैं। आप चाहें तो अपने कृषि सलाहकार माध्यम से भी PMKSY के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा आप ब्लॉक या जिला स्तर के कृषि कार्यालय जाकर इस योजना के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं तथा वहाँ आवेदन भी कर सकते हैं।
इसे भी पढ़े :
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img
Latest News

Districts of Assam

Districts of Assam There are 33 districts in Assam and the number of villages in Assam is currently 26637, Assam...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img