Tuesday, July 5, 2022
No menu items!

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना | यूपी सुमंगला योजना 2022 | UP Kanya Sumangala Yojana | Sumangla Yojana UP

Must Read

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना | यूपी सुमंगला योजना 2022 | UP Kanya Sumangala Yojana | Sumangla Yojana UP

मुख्यमंत्री सुमंगला योजना – हमारे समाज में बेटियों के साथ हमेशा से ही भेदभाव होता आया है। चाहे अच्छी शिक्षा की बात हो या फिर लालन-पालन की, बेटों की तुलना में बेटियों के लिए अलग मापदंड तय कर दिए जाते हैं। इसकी वजह से बेटियों को अच्छे अवसर नहीं मिल पाते हैं और वह शिक्षा, रोजगार आदि में पीछे रह जाती है।
इसी भेदभावपूर्ण रवैये को बदलने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत बालिकाओं के अच्छे स्वास्थ्य व अच्छी शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए सरकार छह किश्तों में कुछ ₹15000 तक देती है। यह योजना “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” मिशन को आगे बढ़ाती है।
इस आलेख में आगे हम मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना क्या है? सुमंगला योजना उत्तर प्रदेश के उद्देश्य क्या हैं? इसके लाभ क्या हैं? इस योजना का लाभ लेने के लिए जरूरी मापदंड, पात्रता या शर्तें कौन-कौन सी हैं? इसके लिए जरूरी दस्तावेज कौन-कौन से हैं? तथा मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया क्या है? इन सब के बारे में विस्तार से जानेंगे।

◆ मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना क्या है?

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई एक ऐसी योजना है, जिसके तहत बालिकाओं के अच्छे स्वास्थ्य और अच्छी शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए उसे आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। आज भी समाज में बेटियों के लिए नकारात्मक मानसिकता देखने को मिलती है। उसे लड़कों से कमतर समझा जाता है।
बेटियों को बेटों की तुलना में शिक्षा,रोजगार आदि में कम आजादी दी जाती है। समाज की इस मानसिकता के कारण बाल-विवाह जैसी कुरीतियां व कन्या भ्रूण हत्या अपराध होते हैं। बेटियों को कई लोग परिवार पर एक बोझ समझते हैं। लोगों की इसी मानसिकता को बदलने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना लाई है।
इस योजना का क्रियान्वयन उत्तर प्रदेश सरकार के महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा किया जा रहा है। सरकार ने इस योजना के संचालन के लिए 1200 करोड़ रूपये के बजट की मंजूरी दी है।
इस योजना के तहत छह चरणों में आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। बालिका के जन्म होने पर ₹2000, एक वर्ष के अंदर पूर्ण टीकाकरण के बाद ₹1000, पहली कक्षा में प्रवेश लेने पर ₹2000, छठी कक्षा में प्रवेश लेने पर ₹2000, नौवीं कक्षा में प्रवेश के बाद ₹3000 तथा 12वीं के बाद स्नातक या 2 वर्ष या इससे अधिक के डिप्लोमा कोर्स में एडमिशन लेने के बाद ₹5000 की राशि दी जाती है।
इस तरह सरकार कुछ बेटियों के नाम कुल ₹15000 रूपये देती है। यह योजना बालिकाओं की अच्छी शिक्षा दिलाने में काफी मददगार साबित हो रही है। इस योजना के माध्यम से अच्छी शिक्षा प्राप्त करके प्रदेश की हर बेटी आत्मनिर्भर बन पाएंगी।
◆ मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के उद्देश्य क्या हैं?
1. बेटियों के अच्छे स्वास्थ्य स्थिति को सुनिश्चित करना – हमारे समाज में बेटों की तुलना में बेटियों के स्वास्थ्य देखभाल में भी भेदभाव या कोताही बरती जाती है। इस योजना के तहत बेटियों के जन्म के तुरंत बाद ₹2000 तथा एक वर्ष के अंदर टीकाकरण पूर्ण कराने पर ₹1000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है ताकि बेटियों के अच्छे स्वास्थ्य सुविधाओं को सुनिश्चित किया जा सके। इस योजना का उद्देश्य बेटियों की अच्छे स्वास्थ्य के साथ प्रदेश की बाल मृत्यु दर को भी घटाना है।
2. बेटियों को अच्छी शिक्षा – इस योजना का मुख्य उद्देश्य बेटियों को अच्छी शिक्षा भी देना है। इस योजना में पहली, छठी, नौवीं तथा 12वीं के बाद स्नातक या न्यूनतम दो वर्षीय डिप्लोमा कोर्स में एडमिशन लेने पर क्रमशः ₹2000, ₹2000, ₹3000 तथा ₹5000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है ताकि आर्थिक कारणों के बेटियों की पढ़ाई न रूके और उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहन मिले।
3. बाल विवाह पर रोक – इस योजना का उद्देश्य बाल विवाह जैसी कुप्रथा पर रोक लगाना भी है। कई लोग अपनी बेटियों को ज्यादा पढ़ाने नहीं चाहते हैं और कम आयु में ही उसका विवाह कर देते हैं। इस योजना के द्वारा आगे पढ़ाने के लिए सहायता राशि प्रदान की जाती है।
4. कन्या भ्रूण हत्या पर रोक – भ्रुण हत्या पर रोक लगाने के लिए सरकार अब तक कई कानून ला चुकी है लेकिन दुर्भाग्यवश अब तक ये घिनौना अपराध बंद नहीं हुआ है।
भ्रूणहत्या बंद करने का एकलौता प्रभावी तरीका है सामाजिक जागरूकता। इस योजना के माध्यम से सरकार समाज में जागरूकता लाने का प्रयास कर रही है ताकि भ्रुण हत्याएं रूक सके। कई लोग बेटी को बोझ समझते हैं। इस योजना के माध्यम से सरकार उसके जन्म पर और उसकी शिक्षा के लिए पैसे देती है ताकि बेटी परिवार पर बोझ न समझी जाए।
◆ मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के लाभ :
• कन्या सुमंगला योजना का लाभ छह श्रेणियों में दिया जाता है :
• प्रथम श्रेणी के अंतर्गत बेटी के जन्म के छह महीने के अंदर आवेदन करना होता है। इसमें ₹2000 की धनराशि प्रदान की जाती है।
• द्वितीय श्रेणी के अंतर्गत एक वर्ष के अंदर सारे टीकाकरण पूरा होने पर ₹1000 दिया जाता है।
• तृतीय श्रेणी में बेटी के पहली कक्षा में एडमिशन लेने पर ₹2000 प्रदान की जाती है।
• चतुर्थी श्रेणी के अंतर्गत बेटी के छठी कक्षा में प्रवेश लेने पर ₹2000 की धनराशि दी जाती है।
• पंचम श्रेणी में अंतर्गत बेटी के नौवीं कक्षा में प्रवेश लेने पर ₹3000 प्रदान की जाती है।
• छठी श्रेणी के अंतर्गत 12वीं के पश्चात् स्नातक या न्यूनतम दो वर्षीय डिप्लोमा पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने पर ₹5000 की धनराशि प्रदान की जाती है।
◆ मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना का लाभ लेने के लिए आवश्यक पात्रता :
• इस योजना का लाभ केवल उत्तर प्रदेश के कानूनी रूप से स्थायी निवासी को ही मिलेगा
• परिवार की वार्षिक आय 3 लाख रूपये या इससे कम हो।
• सामान्यतः एक परिवार में अधिकतम दो बेटियों को ही इस योजना का लाभ मिलेगा।
• विशेष परिस्थिति में दूसरी बार में जुड़वां बेटी होने पर तीनों बेटियों को योजना का लाभ मिलेगा।
• योजना का पूरा लाभ लेने के लिए बेटी का एडमिशन चालू शैक्षणिक सत्र में ही कराना होगा।

◆ मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना का लाभ लेने के लिए जरूरी दस्तावेज :

1. माता, पिता व बेटी(अगर उपलब्ध हो) का आधार कार्ड
2. आधार कार्ड न रहने पर कोई वैध पहचान पत्र जैसे- पैन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, बैंक पासबुक, ड्राइविंग लाइसेंस आदि।
3. माता-पिता व बेटी का संयुक्त फोटो (पासपोर्ट साइज)
4. बेटी का नवीनतम पासपोर्ट साइज फोटो
5. आय प्रमाण पत्र
6. आवासीय प्रमाण पत्र
7. बैंक खाता पासबुक
8. मोबाइल नंबर
9. माता-पिता न होने पर वैध अभिभावक का ₹10 के स्टांप पेपर पर शपथ पत्र
◆ अलग-अलग श्रेणियों के लिए कुछ विशेष प्रमाण पत्र :
1.) प्रथम श्रेणी का लाभ लेने के लिए आवश्यक दस्तावेज :
ग्राम पंचायत/नगरपालिका/नगर निगम द्वारा जारी जन्म प्रमाण पत्र
अगर बेटी का जन्म किसी अस्पताल या नर्सिंग होम में हुआ हो तो वहाँ से जारी प्रमाण पत्र
प्रथम श्रेणी के तहत योजना का लाभ लेने के लिए बेटी के जन्म के छह महीने के अंदर आवेदन करना होगा।
2.) द्वितीय श्रेणी का लाभ लेने के लिए जरूरी दस्तावेज :
एक वर्ष के अंदर लगाए गए सभी जरूरी टीके का टीकाकरण या MCP कार्ड का फोटोकॉपी जो संबंधित एएनएम या आशा कार्यकर्ता द्वारा सत्यापित हो
3.) तृतीय श्रेणी अंतर्गत लाभ लेने के लिए जरूरी दस्तावेज :
किसी मान्यता प्राप्त सरकारी या प्राइवेट विद्यालय में कक्षा-1 में दाखिला लेने पर वहाँ के प्रधानाचार्य द्वारा जारी एडमिशन संबंधी प्रमाण-पत्र
इस श्रेणी के तहत योजना का लाभ लेने के लिए एडमिशन लेने के 45 दिनों के भीतर या 31 जुलाई तक आवेदन करना अनिवार्य है।
4.) चतुर्थ श्रेणी अंतर्गत लाभ लेने के लिए जरूरी दस्तावेज :
किसी मान्यता प्राप्त सरकारी या गैर सरकारी विद्यालय में पांचवीं कक्षा में दाखिला लेने पर वहाँ के प्रधानाचार्य द्वारा जारी प्रवेश संबंधी प्रमाण-पत्र
इस श्रेणी के तहत योजना का लाभ लेने के लिए एडमिशन लेने के 45 दिनों के भीतर या 31 जुलाई तक आवेदन करना अनिवार्य है।
5.) पंचम श्रेणी अंतर्गत लाभ लेने के लिए जरूरी दस्तावेज :
किसी मान्यता प्राप्त सरकारी या गैर सरकारी विद्यालय में नौवीं कक्षा में दाखिला लेने पर वहाँ के प्रधानाचार्य द्वारा जारी प्रवेश संबंधी प्रमाण-पत्र
इस श्रेणी के तहत योजना का लाभ लेने के लिए एडमिशन लेने के 45 दिनों के भीतर या 30 सितंबर तक आवेदन करना अनिवार्य है।
6.) छठी श्रेणी अंतर्गत लाभ लेने के लिए जरूरी दस्तावेज :
किसी मान्यता प्राप्त सरकारी या गैर सरकारी कॉलेज/यूनिवर्सिटी/शैक्षणिक संस्थान में स्नातक या 2 वर्ष या इससे अधिक के डिप्लोमा पाठ्यक्रम में दाखिला लेने पर वहाँ के प्रधानाचार्य द्वारा जारी प्रवेश संबंधी प्रमाण-पत्र।
मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं कक्षा उत्तीर्ण होने का सार्टिफिकेट
इस श्रेणी के तहत योजना का लाभ लेने के लिए एडमिशन लेने के 45 दिनों के भीतर या 30 जुलाई तक आवेदन करना अनिवार्य है।

◆ मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना में आवेदन प्रक्रिया व स्वीकृति के चरण :

• मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना का लाभ लेने के लिए बालिका(यदि 18 वर्ष या इससे ऊपर की हो) या उसके माता-पिता/कानूनी अभिभावक आवेदन कर सकते हैं।
• आवेदन ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरीकों से किया जा सकता है।
• मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना में ऑनलाइन आवेदन करने लिए नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर जा सकते हैं या घर बैठे भी अपने मोबाईल/कंप्यूटर/टैबलेट से कर सकते हैं। इसके लिए आपको इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट mksy.up.gov.in पर जाना होगा।
• ऑफलाइन आवेदन करने के लिए आप खण्ड विकास अधिकारी, एसडीएम, जिला परिवीक्षा अधिकारी या उप मुख्य परिवीक्षा अधिकारी के कार्यालय जाएं। यहाँ आपको एक आवेदन पत्र मिलेगा। इसे अच्छी तरह भरकर सभी जरूरी दस्तावेजों को अटैच कर वहीं जमा कर दें।
• प्रत्येक श्रेणी का लाभ लेने के लिए हर बार आपको आवेदन करना होगा।
• इस योजना में पहली बार आवेदन करने पर एक आईडी नंबर मिलेगा,इसे संभाल कर रखें। अगली बार आवेदन करने में यह काम आएगी।
• ऑनलाइन और ऑफलाइन सभी तरीकों से प्राप्त आवेदन पत्र का संबंधित अधिकारी जाँच करेंगे। जाँच के पश्चात् लाभार्थी के बैंक अकाउंट में राशि DBT के माध्यम से डाइरेक्ट ट्रांसफर कर दी जाएगी।
◆ मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना में ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया Mukhyamantri Kanya Sumangala Yojana Online Apply:
अगर आप या आपकी बेटी इस योजना के लिए पात्र हैं और आप आपके पास ऊपर बताए गए सभी जरूरी दस्तावेज उपलब्ध हैं , तो इस मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के लिए आप आसानी से घर बैठे ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए नीचे बताए गए स्टेप्स ध्यानपूर्वक फॉलो करें :
• सबसे पहले इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट – mksy.up.gov.in पर जाएं।
• यहाँ होम पेज पर आपको Citizen Service Portal का विकल्प दिखेगा, इसपर क्लिक करें। आप चाहें तो सीधे इस लिंक पर क्लिक करके भी जा सकते हैं – https://mksy.up.gov.in/women_welfare/citizen/guest_login.php
• आपके सामने एक नया पेज खुलेगा। इसमें I Agree कर टिक लगाकर Continue पर क्लिक करें।
• अब आपकी स्क्रीन पर एक Form खुलेगा। इसमें मांगी गई सभी जानकारी अच्छी तरह भरें।
• मोबाइल नंबर भरने के बाद आपके फोन पर एक OTP आएगा, इसे संबंधित बॉक्स में भरकर सत्यापित करें।
• इस तरह सारी प्रक्रिया पूरी करने के बाद आपको एक यूजर आईडी मिल जाएगी।
• यूजर आईडी और पासवर्ड का इस्तेमाल करके आपको लॉगिन करना होगा।
• लॉगिन करने के बाद एक Registration Form मिलेगा। इसे अच्छी तरह से भरकर जरूरी दस्तावेज अपलोड करके Submit कर दें।
• इस तरह से आप घर बैठे Mukhyamantri Kanya Sumangala Yojana Online Apply कर सकते हैं।
• अगली बार अगर आपको दुबारा इस योजना की किसी अन्य श्रेणी का लाभ लेना हो तो इसी यूजर आईडी और पासवर्ड का उपयोग करके लॉगिन करना होगा।
Mukhyamantri Kanya Sumangala Yojana Important FAQ :
1. मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना में कितने पैसे मिलते हैं?
– इस योजना छह श्रेणियों में पैसे मिलते हैं प्रथम श्रेणी में बेटी के जन्म के छह महीने के अंदर ₹2000, द्वितीय श्रेणी में एक वर्ष के अंदर सभी टीकाकरण कंप्लीट करवाने पर ₹1000, तृतीय श्रेणी में पहली कक्षा में एडमिशन लेने पर ₹2000, चतुर्थ श्रेणी में कक्षा छह में एडमिशन लेने पर ₹2000, पंचम श्रेणी में नौवीं कक्षा में एडमिशन लेने पर ₹3000 तथा छठी श्रेणी में 12वीं के बाद स्नातक या न्यूनतम दो वर्षीय डिप्लोमा पाठ्यक्रम में एडमिशन लेने पर ₹5000 की राशि प्रदान की जाती है।
2. मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना का लाभ एक परिवार की कितनी बेटियों को मिलेगा?
– इस योजना का लाभ एक परिवार में सामान्यतः केवल दो बेटियों को मिलता है। विशेष परिस्थिति में दूसरी संतान जुड़वां बेटी होती है तो तीनों बेटियों को योजना का लाभ मिलेगा।
3. मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के लिए आवेदन कैसे किया जाता है?
– इस योजना के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से आवेदन किया जा सकता है। ऑनलाइन आवेदन करने के लिए योजना की आधिकारिक वेबसाइट mksy.up.gov.in पर जाएं। ऑफलाइन आवेदन करने के लिए खण्ड विकास अधिकारी, एसडीएम, जिला परिवीक्षा अधिकारी या उप मुख्य परिवीक्षा अधिकारी के कार्यालय जाएं।
4. ऑफलाइन आवेदन करने के लिए आप खण्ड विकास अधिकारी, एसडीएम, जिला परिवीक्षा अधिकारी या उप मुख्य परिवीक्षा अधिकारी के कार्यालय जाएं।
5. मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के लिए पात्रता क्या है?
– आवेदक/आवेदिका उत्तर प्रदेश की स्थायी निवासी हो
– वार्षिक आय अधिकतम 3 लाख हो
– प्रथम श्रेणी की के अंतर्गत लाभ लेने के लिए बेटी के जन्म के छह महीने के भीतर आवेदन करना होगा।
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img
Latest News

Districts of Assam

Districts of Assam There are 33 districts in Assam and the number of villages in Assam is currently 26637, Assam...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img