Tuesday, July 5, 2022
No menu items!

what is sar value? | SAR वैल्यू क्या है? इंसानी शरीर के लिए कितना खतरनाक है? और कैसे Check करे – हिंदी में

Must Read

what is sar value? | SAR वैल्यू क्या है? इंसानी शरीर के लिए कितना खतरनाक है?

what is sar value?

आजकल हर किसीके पास स्मार्ट फ़ोन स्मार्ट फ़ोन होना आम बात है। एक से बढ़कर एक फीचर्स, बहतर कैमरा क्वालिटी और डिजाईन के चलते लोग इन्हें ज्यादा खरीद रहे है। अब के स्मार्ट फ़ोन कैलक्यूलेटर, घडी, कैलेंडर, स्टिकी नोट्स, यहाँ तक के लैपटॉप को भी मात देकर उनके जगह लेने लगा है। इन सब डिमांड को देखते हुए मोबाइल कंपनियां भी अपने कीमत को ग्राहक के समर्थ के हिसाब से रख रहे रहे है। ऐसे में एक स्मार्ट फ़ोन खरीदना अक्लमंदी की बात होगी।

यह न तो सिर्फ आपको बहतर सुविधा के साथ बहतर फीचर्स देता है, बल्कि आपके कई तरह से मदद भी करता है। ये तो रही एक स्मार्ट फ़ोन के बारे में कुछ अच्छी बातें, क्या आपको पता है स्मार्ट फ़ोन के कुछ बुरी बातें भी ? जी नहीं हम स्मार्ट फ़ोन से लगने वाली बुरी आदतें के विषय में नहीं बोल रहे बल्कि इससे निकालनी वाली Radio Frequency Radiation के बारे में बोल रहे है। जी हां दोस्तों,

बाकि सभी इलेक्ट्रिक उपकरणों के तरह यह भी Radio Frequency Radiation निकालता है जो के मानव शारीर के ऊपर हानि कारक प्रभाव डालता है। रोजाना ऐसी Radiation के संस्पर्श में आने से शारीर में कई तरह के छोटे मोटे दिक्कतों का साथ साथ बड़ी अफदा भी देखने को मिल सकता है।

आज हम मोबाइल फ़ोन से निकलने वाली इसी Radio Frequency Radiation को नापने वाली SAR वैल्यू के बारे में बात करने वाले है, इसके साथ साथ इसके हमारे शारीर पर प्रभाव के बारे में भी चर्चा करेंगे।

SAR वैल्यू क्या है ?

SAR(Specific Absorption Rate) वैल्यू मोबाइल फ़ोन से निकले हुए रेडियो फ्रीक्वेंसी या तरंगों को मानव शारीर पर अवशोषित होने के मापदंड को कहा जाता है। यह वैल्यू दर्शाता है कि किसी मोबाइल से निकले हुए रेडियो फ्रीक्वेंसी मानव शरीर में कितना शोषित होता है। यह अलग अलग मोबाइल फ़ोन में अलग अलग हो सकता है। किसी मोबाइल फ़ोन का SAR वैल्यू ज्यादा किसी मोबाइल फ़ोन का कम भी हो सकता है, यह मोबाइल फ़ोन पर निर्भर करता है।
यह वैल्यू मानव शरीर के अलग अलग हिस्सो में अलग अलग हो सकता है।

इसे भी पढ़े:

Search Engine Optimization kya hai? SEO क्या होता है? 2022

SAR वैल्यू का ज्यादा होना खतरे की संभावना को बढ़ाता है। इसीलिए SAR वैल्यू जितना कम हो हमारे शारीर के लिए उतना ही अच्छा होता है। शारीर के पास होने पर अगर मोबाइल फ़ोन एक्टिव है या फिर कॉल पर है तो इसकी संभावना ज्यादा होती है।

भारत समेत पूरे विश्व भर में SAR वैल्यू की मापदंड को मान्यता दी गई है। यह मोबाइल फ़ोन के Electric Magnetic Radiation को दर्शाने के साथ साथ यह भी सूचित करता है कि आपके मोबाइल फ़ोन कितना सुरक्षित है आपके लिए। हर मोबाइल फ़ोन के पैकेज या फिर डिब्बे में SAR वैल्यू का उल्लेख होना अनिवार्य है।
भारत में SAR वैल्यू की सर्वाधिक 1.6 W/Kg है। यह वैल्यू अलग अलग देश के लिए अलग अलग है।

 

SAR वैल्यू के रेगुलेटरी

अलग अलग देश में SAR वैल्यू के अलग अलग रेगुलेटरी है। जैसे की भारत में SAR वैल्यू को Department Of Telecom द्वारा नियंत्रित किया जाता है। इसी कारण से अलग अलग देश में अलग अलग सर्वाधिक SAR वैल्यू देखने को मिलता है।
जैसे की आपको पता भारत में सर्वाधिक SAR वैल्यू 1.6 w/kg है इसी तरह कुछ दूसरे देशों की SAR वैल्यू कुछ इस प्रकार के है –

  • कनाडा और USA – 1.6 w/kg
  • यूरोपीय देश – 2 w/kg
  • ऑस्ट्रेलिया – 2 w/kg
  • जापान -2 w/kg
  • कोरिया- 1.6 w/kg

वेसे ही अलग अलग मोबाइल फ़ोन के अलग अलग SAR वैल्यू होते है। चलिये कुछ सर्वाधिक SAR वैल्यू वाले मोबाइल फ़ोन के बारे में जानते है।

  • Huawi p9 -1.44 w/kg (फ़िलहाल भारत में उपलब्ध नहीं है)
  • Lumia 925 और Lumia 928 -1.4 w/kg (यह भी उपलब्ध नहीं है)
  • iphone 7 – 1.38 w/kg
  • iphone 7 plus – 1.24 w/kg
    ऐसे ही कई सारे मोबाइल फ़ोन है जिनके SAR वैल्यू कई ज्यादा है।

इसे भी पढ़े:

One Time Password (OTP) क्या है?

SAR वैल्यू के मानव शारीर पर असर क्या होता है?

SAR वैल्यू अगर ज्यादा किसी फ़ोन पे रहता है तो यह लंबे समय में हमारे शारीर के लिए हानिकारक साबित होता है। इससे कई सारे बिमारियां हो सकता है। SAR न सिर्फ मोबाइल फ़ोन से निकलता बल्कि बाकि इलेक्ट्रिक उपकरण जैसे की माइक्रोवेव्स से भी निकालता है। आइये इसमें जुडी कुछ स्वाथ्य समस्यायों के बारे में भी जान लेते है।

  • लंबे समय तक अगर शारीर Radio Frequency Radiation के संस्पर्श में आता है तो सर दर्द होना आम सी बात बन जाती है।
  •  इस radiation से होने वाली सर दर्द आगे चलकर कैंसर का कारण भी बन सकता है।(फ़िलहाल मोबाइल से उतना radiation नहीं निकलता के कैंसर हो सके)
  • WHO(World Health Organization) ने भी यह पुष्टि की है कि यह radiation से शारीर में अनेक प्रकार के बीमारी देखे जा सकते है। यह बीमारी मुख्य तौर पर स्नायुतंत्र और मस्तिष्क पर प्रभाव डालती है।
  • फ़िलहाल मोबाइल का SAR वैल्यू इतना ज्यादा नहीं होता पर इससे होने वाली अफदा को टाला भी नहीं जा सकता।

SAR वैल्यू के हानिकारक रेडिएशन से बचने के कुछ तरीके

  • हमने यह तो जान लिया हाई SAR वैल्यू होने से क्या क्या खतरे हो सकते है। इससे बचने के कुछ उपाय भी बताते है जो आपके काम आएंगे।
  • आपका मोबाइल के SAR वैल्यू जानने के लिए अपने मोबाइल के के डिब्बे में देखिये उसपे SAR वैल्यू लिखा हुआ रहता है।
  • अगर मोबाइल के पैकेट आपके पास नहीं है तो आप अपने मोबाइल से *#07# डायल करके भी यह आता लगा सकते है।
  • मोबाइल में ज्यादा बात करते है तो wired earphone का इस्तेमाल करें। मोबाइल शारीर से जितना दूर रहेगा उतना कम इसके प्रभाव होंगे।
  • ब्लू टूथ earphone या फिर earbuds भी SAR निर्गत करते है, यह भी उतना हानिकारक है जितना के मोबाइल फ़ोन। इनका इस्तेमाल कम से कम करें।
  • अगर संभव हो तो फ़ोन स्पीकर पे ही रखके ज्यादा बात करें।

दोस्तों, आज हमने SAR वैल्यू क्या है? इसके नुकसान क्या क्या होते है और इससे कैसे बचा जा सकता है इसके बारे में हमने बिस्तार से चर्चा की। पहले से सावधानी बरतनी में ही अक्लमंदी है। तो आशा है कि आज के हमारा पोस्ट आपको अच्छा लगा होगा। इसके बारेमें अपना राय हमे कमैंट्स में लिखकर बताये।

इसे भी पढ़े:

internet कहाँ से आता है ? और कैसे आता है? | internet kahase aatha hai

Mobile Balance Transfer कैसे करे? | Mobile Balance Transfer Kai se kare

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img
Latest News

Districts of Assam

Districts of Assam There are 33 districts in Assam and the number of villages in Assam is currently 26637, Assam...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img